• Twitter
  • Facebook
  • Google+
  • LinkedIn

भा.प्रौ.सं मुंबई के विद्यार्थियों ने गांधी युवा प्रौद्योगिकी नवाचार पुरस्कार जीता।

20 Mar 2018

गांधी युवा प्रौद्योगिकी नवाचार (GYTI) पुरस्कार/सम्मान 2018  समारोह का आयोजन राष्ट्रपति भवन में दिनांक 19  मार्च  2018 को किया गया। डॉ. आर.ए.माशेलकर, अध्यक्ष, अनुसंधान सलाहकार समिति, एसआरआईएसटीआई (SRISTI) तथा एनआईएफ(NIF) ने नवाचार तथा उद्यमी उत्सव 2018 के दौरान भारत के माननीय राष्ट्रपति श्री. रामनाथ कोविंद की उपस्थिति में पुरस्कार विजेताओं को प्रदान किया गया।

इस कार्यक्रम के दौरान, संस्थान के पूर्व छात्र श्री.त्रिविक्रम ए.और श्री.अविनाश प्रभुणे, औद्योगिक अभिकल्प केन्द्र, अभिकल्प विद्यालय ने गांधी युवा प्रौद्योगिकी नवाचार (GYTI) पुरस्कार/सम्मान 2018 जीता।श्री.त्रिविक्रम को परियोजना 'वेन डिटेक्टर'के लिए सम्मानित किया गया। यह परियोजना प्रा. गिरीश दलवी, प्रा.पूर्वा जोशी तथा प्रा. बी.के.चक्रवर्ती के मार्गदर्शन में पूरा किया। श्री. प्रभुणे को परियोजना 'विंडो-माउंटेड सोलार कूकर' के लिए सम्मानित किया गया, यह परियोजना प्रा.बी.के.चक्रवर्ती के मार्गदर्शन में पूरा किया।सुश्री.देबस्मिता मंडल और श्री.सौरभ अग्रवाल, जैव विज्ञान तथा जैव अभियांत्रिकी विभाग के विद्यार्थियों ने प्रा.सौम्यो मुखर्जी के मार्गदर्शन में 'हृद् जैवअंकन के संसूचन हेतु स्मार्टफोन आधारित प्रतिबाधामापी नियंत्रण जैवसंवेदी' को विकसित किया है उन्होंने भी पुरस्कार जीता। जैवप्रौद्योगिकी उद्योग अनुसंधान सहायता परिषद (BIRAC) द्वारा प्राप्त इस पुरस्कार में ट्रॉफी, प्रमाणपत्र और रु.15 लाख के अऩुसंधान पुरस्कार का समावेश है।