• Twitter
  • Facebook
  • Google+
  • LinkedIn

भा.प्रौ.सं. मुंबई ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस, 2017 मनाया

22 Jun 2017
योग 5,000 वर्ष पुराना शारीरिक मानसिक एवं आध्यात्मिक व्यायाम है, जिसकी व्युत्पत्ति भारत में हुई। यह तन मन दोनों का रूपांतरण करता है। 11 दिसंबर, 2014 को संयुक्त राष्ट्र के महासभा ने 21जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में घोषित किया।14 जून 2017 को संस्थान के पी.सी सक्सेना प्रेक्षागृह में 'योग के इतिहास' पर एक फिल्म दिखाई गई।भा.प्रौ.सं. मुंबई परिसर के विभिन्न स्थानों पर 17, 18 एवं 19 जून को योग शिविरों का आयोजन किया गया।18जून 2017 को एक विहंगम ध्यान कैम्प आयोजित किया गया।प्रशिक्षित योग प्रशिक्षक श्री. एस.डी भालेकर ने परिसर के एफ सी कोहली प्रेक्षागृह में मंगलवार, 20 जून, 2017 को शाम 6 बजे ' योग का महत्व' विषय पर एक व्याख्यान दिया।भा.प्रौ.सं. ने 21जून 2017 को तीसरा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया यह आयोजन भा.प्रौ.सं. मुंबई समुदाय के सभी सदस्यों की शानदार सहभागिता का प्रत्यक्षदर्शी रहा जिसमें विद्यार्थी, संकाय सदस्य कर्मचारी एवं उनके परिवार के सदस्य शामिल थे।21 जून, 2017 को दो योग सत्र जिमखाना भवन में स्थित बैडमिंटन हॉल में आयोजित किया गया। प्रातः सत्र के दौरान एक साधारण योग प्रोटोकाल का आयोजन किया गया। प्रतिभागियों को विभिन्न आसनों एवं प्राणायामों को सिखाया गया । प्रशिक्षक ने मनुष्य के शारीरिक एवं मानसिक स्वास्थ्य तथा तंदुरुस्त रहने के लाभदायक मुद्दों को स्पष्ट किया। प्रशिक्षक ने प्रतिभागियों को प्रतिदिन योगाभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित किया।शाम 6 बजे के सांध्य सत्र में उसी स्थान पर योगाथॉन का आयोजन किया गया। पंजीकृत प्रतिभागियों ने 108 सूर्यनमस्कार किए। प्रतिभागियों ने पूर्ण निश्चय एवं उत्साह से सभी आसनों का योगाभ्यास किया।